ट्रैक्टर लोन नहीं चुकाने पर क्या होता है | Tractor Loan Nahi Chukane Par Kya Hota Hai

आज के इस लेख में हम ट्रैक्टर लोन नहीं चुकाने पर क्या होता है (Tractor loan nahi chukane par kya hota hai) इस बारे में चर्चा करेंगे। बाजार में ट्रैक्टर की कीमत बहुत ज्यादा होती है, इसलिए पूरी कीमत देकर खरीद पाना बहुत मुश्किल होता है। इसी वजह से लोग ट्रैक्टर, लोन पर खरीदते हैं लेकिन कई बार लोग ट्रैक्टर खरीद तो लेते हैं परंतु ट्रैक्टर लोन सही समय पर नहीं चुका पाते या लोन चुकाने में विफल हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें कई कानूनी कार्रवाई से गुज़रना पड़ता है, जिसके बारे में हम नीचे बात करेंगे। तो चलिए शुरू करते है – 

ट्रैक्टर लोन क्या है | Tractor Loan Kya Hai

ट्रैक्टर लोन विशेष तौर पर वे लोग खरीदते हैं, जो गांव में खेती- बाड़ी का कार्य करते हैं। जैसे – किसान या खेतों के मालिक ताकि खेती करने में आसानी हो। लेकिन महंगाई के इस दौर में ट्रैक्टर खरीद पाना हर किसी के लिए संभव नहीं हो पाता है। इसलिए ट्रैक्टर लोन की फैसिलिटी उपलब्ध कराई गई है ताकि जिन्हें ट्रैक्टर की जरूरत है, लेकिन उनके पास ट्रैक्टर खरीदने के लिए पूरी रकम नहीं है तो वह ऐसे हालात में ट्रैक्टर लोन की मदद से अपना नया ट्रैक्टर खरीद सकते हैं। 

ट्रैक्टर लोन के माध्यम से ट्रैक्टर खरीदने के लिए ट्रैक्टर की कुल कीमत में से केवल 30% रकम का ही भुगतान करना होगा और बाकी बचे शेष 70% रकम आपको धीरे-धीरे किस्तों में देने होते हैं, इन्हीं प्रक्रिया को ट्रैक्टर लोन कहते हैं। यानी कि ट्रैक्टर लोन के जरिए ट्रैक्टर की पूरी कीमत दिए बिना केवल 30% भुगतान करके कोई भी ट्रैक्टर खरीद सकता है और बाकी 70% राशि में ब्याज़ दर जोड़कर कर हर महीने किस्तों में उन राशि का भुगतान करना होता है। 

इसको भी पढ़े –
SBI Bank Me Account Kholne Ke Liye Document

ट्रैक्टर लोन कैसे लें | Tractor Loan Kaise Le

ट्रैक्टर पर लोन लेने के लिए किसी भी नजदीकी bank से आपको संपर्क करना होगा और वहाँ ट्रैक्टर लोन के लिए आवेदन करना होगा। आपको बता दें, कि ट्रैक्टर लोन आपको तकरीबन सभी bank में आसानी से मिल जाएंगे लेकिन सभी bank के ब्याज दर अलग-अलग होते हैं। 

इसलिए आप पहले उन तमाम banks में ब्याज दर के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें और जहां कम ब्याज दर में आपको ट्रैक्टर लोन मिले उसी bank में लोन के लिए आवेदन करें। इसके अतिरिक्त आप जिस कंपनी या जहां से ट्रेक्टर खरीद रहे हैं, वहां से भी आप लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। ट्रैक्टर लोन में आपको केवल डाउन पेमेंट करनी होती है और बाकी शेष राशि प्रत्येक महीने किस्तों में आप जमा कर सकते हैं। 

ट्रैक्टर लोन नहीं चुकाने पर क्या होता है | Tractor Loan Nahi Chukane Par Kya Hota Hai

जब कोई ट्रैक्टर लोन चुकाने में असमर्थ होता है, तब bank या अन्य प्लेटफार्म जहां से आपने ट्रैक्टर लोन लिया है, वे कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं और आपको काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है। जैसे कि – 

Bank या Finance Company करेंगे संपर्क 

ट्रैक्टर लोन लेने के बाद जब आप पहली किस्त या EMI किसी कारणवश नहीं जमा कर पाते हैं, तब आपके पास bank या finance company से आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक रिमाइंडर मैसेज आएगा। आपको यह याद दिलाने के लिए की आपको लोन की पहली किस्त या EMI जमा करवानी है। 

लेकिन जब आप दूसरी बार भी लोन की किस्त या EMI चुकाने में असमर्थ होते हैं, तब bank या finance company की तरफ से आपको कॉल आएगा और आपको लोन की किस्त या EMI जमा करने की request करेगा। 

इसको भी पढ़े –
Bank Of Baroda Me Mobile Number Kaise Change Kare Online

Demand Legal Notice आएगा 

ट्रैक्टर लोन लेने के बाद जब आप तीसरी बार भी बकाया राशि या EMI का भुगतान नहीं करते हैं, तब आपके द्वारा दिए गए एड्रेस पर Demand legal notice bank या finance company की ओर से आएगा। यह एक तरह का warning letter होता है, इसलिए ताकि यदि आप अगली बार भी किस्त जमा नहीं कर पाते हैं तो मजबूरन bank या finance company आपके खिलाफ लीगल एक्शन ले सकता है।

NPA या Loan Defaulter घोषित करना

यदि आप तीसरी बार दी गई Demand legal notice को भी अनदेखा कर देते है यानी कि warning letter मिलने के बावजूद लोन की बकाया राशि यानी किस्त या EMI का भुगतान नहीं कर पाते है, तो मजबूरन bank के द्वारा आपको NPA (Non performing asset) या Loan defaulter घोषित कर दिया जाता है। ऐसा करने से आपका CIBIL score decrease हो जाएगा और आप को भविष्य में कभी भी किसी भी bank या finance company के द्वारा लोन नहीं मिल पाएगा। 

NPA या Loan defaulter घोषित करने के बाद bank अपने collection staff को यानी जो लोग bank के लिए collection करने का कार्य करते हैं, उन्हें tractor seized (ट्रैक्टर जब्त) करने का order दिया जाएगा। इसका मतलब यह होगा कि आपके पास tractor seized (ट्रैक्टर जब्त) करने का warning letter आएगा और फिर वे आपके ट्रैक्टर को आकर ज़ब्त कर लेंगे। 

Legal Action 

चौथा और सबसे आखरी प्रोसेस होता है, bank या किसी भी finance company के द्वारा Legal Action लेना। जब bank के द्वारा आप को NPA या Loan defaulter घोषित करने के बाद आपको आपकी प्रॉपर्टी यानी कि tractor seized (ट्रैक्टर जब्त) करने का latter दिया जाता है, तो ऐसे में आपके पास दो रास्ते बचते हैं –

पहला या तो आप लोन ली गई बकाया राशि यानी EMI का भुगतान कर दें लेकिन यदि आप EMI देने में असमर्थ है, तो आप अपनी ट्रैक्टर bank या finance company के हवाले कर दें। 

दूसरा यदि आप tractor seized करने का warning letter मिलने के बावजूद ट्रैक्टर bank के हवाले नहीं करते हैं और अपनी किस्त भी जमा नहीं करते हैं, तो bank आप के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा। इसके लिए आप पर section 138 charges लगाई जाएगी और फिर आपको कोर्ट के जरिए केस लड़ना होगा और आपको जुर्माना आदि देना होगा। 

इसको भी पढ़े –
Bank Se Loan Lene Ke Liye Kya Karna Hoga

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस पोस्ट में हमने पढ़ा कि Tractor Loan Nahi Chukane Par Kya Hota Hai. ट्रैक्टर की जरुरत गांव में खेती- बाड़ी करने के लिए पड़ती है। जब आप ट्रैक्टर लोन लेते है तो शुरू में आपको ट्रैक्टर की कीमत का 30% ही देना होता है बाकी 70% अमाउंट की किश्त बाँध दी जाती है जो आपको ब्याज के साथ देना होता है। उम्मीद करता हूँ जब भी कभी आपको ट्रैक्टर लोन लेने की जरुरत पड़ेगी तो यह पोस्ट आपकी मदद जरूर करेगा। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों में इसे जरूर शेयर करे। अपना कीमती समय इस पोस्ट को देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !

FAQs

Q. ट्रैक्टर लोन लेते समय में शुरू में कितना भुगतान करना होता है ?

Ans. जब आप ट्रैक्टर लोन लेते है तो शुरू में आपको 30% का भुगतान करना होता है बाकी 70% धीरे धीरे किश्तों में देना होता है।

Q. अगर आप पहली बार किश्त जमा नहीं करते हैं तो क्या होता है ?

Ans. पहली बार किश्त जमा न करने पर आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक रिमाइंडर मैसेज आता है।

Q. अगर आप दूसरी बार भी किश्त जमा नहीं करते हैं तो क्या होता है ?

Ans. दूसरी बार भी किश्त जमा न करने पर Bank या Finance Company की तरफ से आपके पास कॉल आता है।

Q. अगर आप तीसरी बार भी किश्त जमा नहीं करते हैं तो क्या होता है ?

Ans. तीसरी बार किश्त जमा न करने पर आपके एड्रेस पर bank या finance company की तरफ से Demand Legal Notice भेजा जाता है।

Leave a Comment